Working Women Hostel Scheme 2023 पात्रता, मुख्य दस्तावेज

Working Women Hostel Scheme | wcd.nic.in |

केंद्र और राज्य सरकार की कई ऐसी योजनाएं हैं जो महिलाओं को शिक्षा देने के साथ-साथ उनके कौशल को बढ़ाने के साथ-साथ उनके विकास के लिए चलाई गई हैं। लेकिन जब कामकाजी महिलाओं की बात आती है, तो यह सरकार की जिम्मेदारी बन जाती है कि वह अपने कार्यस्थल पर उनके रहने की उचित व्यवस्था करे।

इस लेख के माध्यम से हम इस योजना से जुड़े कई महत्वपूर्ण पहलुओं को साझा करेंगे जैसे Working Women Hostel Scheme (कामकाजी महिलाओं के लिए आवास योजना) क्या है? और उद्देश्य ,लाभ और पात्रता आदि| यदि आप इस योजना से जुड़े सभी महत्वपूर्ण जानकारी जानने के इक्छुक है तो इस लेख को अंत तक पढ़े|

Working Women Hostel Scheme

Working Women Hostel Scheme

भारतीय महिलाएं, जिन्हें नौकरी के उद्देश्य से अपने घरों से दूर जाना पड़ता है या रहने के लिए कोई आवास नहीं है, अक्सर सुरक्षा से संबंधित भय से पीड़ित होती हैं। इसी को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने एक नई योजना पारित की है जो कामकाजी या असहाय महिलाओं की आवास की जरूरतों को पूरा करने के लिए बनाई गई है।

कार्यक्रम का नाम Working Women Hostel Scheme है इस योजना के अंतर्गत कामकाजी महिलाएं को आवास प्रदान किए जायेंगे और विशेष परिस्थितियों में ही बच्चों को इसमें शामिल किया जाएगा।

योजना का नाम Working Women Hostel Scheme
शुरू की गई केंद्र सरकार द्वारा
सम्बंधित विभाग के अंतर्गत महिला एवं बाल विकास विभाग
लाभार्थी देश की कामकाजी महिलाएं (समाज से वंचित तथा शारीरिक रूप से कमजोर महिलाओं को वरीयता ) (एकल , तलाकशुदा, विवाहित, विधवा)
लाभ कामकाजी महिलाओं को आवास उपलब्ध करना
आधिकारिक वेबसाइट wcd.nic.in

Working Women Hostel Scheme का उद्देश्य

इस योजना का उद्देश्य शहरी, अर्ध-शहरी, या यहां तक कि ग्रामीण क्षेत्रों में जहां महिलाओं के लिए रोजगार के अवसर मौजूद हैं, जहां भी संभव हो, कामकाजी महिलाओं के लिए सुरक्षित और सुविधाजनक आवास की उपलब्धता को बढ़ावा देना है, जहां भी संभव हो, उनके बच्चों के लिए डे केयर सुविधाएं उपलब्ध कराना है।

यह योजना नए छात्रावास भवनों के निर्माण, मौजूदा छात्रावास भवनों के विस्तार और किराए के परिसर में छात्रावास भवनों के निर्माण के लिए परियोजनाओं की सहायता कर रही है। इस योजना के तहत सहायता की जा रही कामकाजी महिला छात्रावास परियोजनाओं को जाति, धर्म, वैवाहिक स्थिति आदि के संबंध में बिना किसी भेदभाव के सभी कामकाजी महिलाओं को योजना के तहत निर्धारित मानदंडों के अधीन उपलब्ध कराया जाएगा।

जबकि इस योजना के तहत सहायता प्राप्त परियोजनाएं कामकाजी महिलाओं के लिए हैं, नौकरी के लिए प्रशिक्षण के तहत महिलाओं को भी इस तरह के छात्रावासों में समायोजित किया जा सकता है, बशर्ते कि एक साथ लिया जाए, ऐसे प्रशिक्षुओं को छात्रावास की कुल क्षमता का 30% से अधिक नहीं होना चाहिए और पर्याप्त संख्या में कामकाजी महिलाओं के उपलब्ध न होने पर ही उन्हें छात्रावासों में ठहराया जा सकता है।

कामकाजी महिलाओं के बच्चे, लड़कियों के लिए 18 वर्ष तक और लड़कों के लिए 5 वर्ष तक की आयु के बच्चों को उनकी माताओं के साथ ऐसे छात्रावासों में ठहराया जा सकता है।

प्रधानमंत्री रोजगार योजना PMRY Online Apply Loan Scheme

Working Women Hostel Scheme की विशेषताएँ

  • Working Women Hostel Scheme के तहत, केंद्र सरकार महिलाओं की आवास की जरूरतों को पूरा करने के लिए 70,000 छात्रावासों की स्थापना कर रही है।
  • इस योजना के तहत अब तक लगभग 938 छात्रावासों का निर्माण किया जा चुका है।
    कामकाजी महिलाओं की मदद के लिए आवास के अलावा डे केयर सेंटर की भी सुविधा दी जाएगी।
  • ऐसी महिलाओं के बच्चों की देखभाल डे केयर सेंटर में तब की जाएगी जब महिलाएं काम पर होंगी। यह सेवा योजना के माध्यम से महिलाओं को कुछ अतिरिक्त लागत पर दी जाएगी।
  • इस योजना के तहत कामकाजी महिलाएं केवल 3 साल के लिए आवास/छात्रावास की सुविधा का लाभ उठा सकती हैं।
  • महिलाओं के छात्रावास में रहने की अवधि कुछ विशेष परिस्थितियों में ही बढ़ाई जा सकती है।

पात्रता मानदंड क्या है?

कामकाजी महिला छात्रावास योजना का लाभ लेने के लिए नीचे दी गयी पात्रता को पूरा करना आवश्यक है –

  • आवेदक महिला कामकाजी होनी चाहिए|
  • कामकाजी महिला एकल(single) ,विधवा (widowed) ,तलाक़शुदा (divorced), अलग (separated) या विवाहित कोई भी हो सकती है।
  • इन सभी कामकाजी महिलाओं के पति या कोई रिश्तेदार एक ही शहर या क्षेत्र में नहीं रह रहे हों।
  • ऐसी महिलाओं को इस योजना में प्राथमिकता दी जाएगी जो वंचित समुदाय से आती हैं।
  • गरीबी रेखा से नीचे वाली महिलाएं भी इस योजना में पात्र मानी जाएँगी।
  • Working Women Hostel Scheme में ऐसी महिलाओं के लिए सीटों का आरक्षण दिया जायेगा जो शारीरिक रूप से कमजोर (handicapped) हैं।
  • ऐसे सभी कामकाजी महिलाओं को Women Hostel Scheme का लाभ दिया जायेगा जिनका नौकरी के लिए ट्रेनिंग पीरियड एक साल से अधिक नहीं है।
  • ऐसी महिलाओं के बच्चे ही इस योजना के अंतर्गत पात्र होंगे जिसके बच्चों का अन्य कोई देखभाल करने वाला न हो और उसके बच्चे लड़के की 5 वर्ष से अधिक और लड़की की आयु 18 से अधिक न होनी चाहिए।

आवश्यक दस्तावेज क्या है?

महत्वपूर्ण दस्तावेज इस प्रकार हैं –

  • आधार कार्ड
  • पैन कार्ड
  • वर्किंग प्लेस का आईडी कार्ड
  • पासपोर्ट की फोटोकॉपी
  • आपका और आपके ऑफिस का मोबाइल नंबर

अकसर पूछे जाने वाले सवाल (FAQs) के उत्तर

Working Women Hostel Scheme में आवेदन के लिए क्या करना होगा?

कामकाजी महिला हॉस्टल योजना में आवेदन के लिए महिला को सम्बंधित राज्य के महिला एवं बाल विकास विभाग से संपर्क करना होगा।

कामकाजी महिला आवास योजना का लाभ लेने के लिए कामकाजी महिला की मासिक आय कितनी होनी चाहिए?

Working Women Hostel Scheme’ का लाभ लेने के लिए यदि आवेदक महिला किसी बड़े शहर या कस्बे में है तो आय 50 हजार रुपये तथा अन्य स्थानों के लिए 35 हजार रुपये होनी चाहिए।

Working Women Hostel Yojana का लाभ किसे मिलेगा?

कामकाजी महिला आवास योजना का लाभ देश की सभी कामकाजी महिलाओं को मिलेगा जो काम के सिलसिले में अपने शहर से दूर हैं सभी महिलाएं (एकल , विवाहित , तलाकशुदा , विधवा) इसके लिए पात्र होंगी लेकिन इस योजना में समाज से वंचित महिलाओं और दिव्यांग महिलाओं को वरीयता दी जाएगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!
Scroll to Top